♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

पीएम मोदी के एक फोन पर सऊदी किंग ने रोक दी थी जंग, यमन में मौत के मुंह से यूं निकाले गए थे हजारों भारतीय

न्यूज औडियो डाउनलोड करें ⇒ Click Here for Download

सूडान में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए ऑपरेशन कावेरी चलाया जा रहा है। 2015 में यमन में युद्ध के दौरान हजारों भारतीय वहां फंस गए थे। तब मोदी ने सऊदी किंग को मदद के लिए फोन किया था। भारतीयों को निकालने के लिए ऑपरेशन राहत चलाया गया था।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। अफ्रीकी देश सूडान में पिछले कुछ दिनों से गृह युद्ध चल रहा है, जिस वजह से वहां हजारों भारतीय फंसे हैं। भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी के लिए ऑपरेशन कावेरी चलाया जा रहा है। इस ऑपरेशन के तहत हिंसा प्रभावित सूडान से 360 भारतीयों का पहला जत्था बुधवार को सूडान से दिल्ली पहुंच चुका है। भारतीयों को सूडान से बाहर निकालने के लिए सऊदी अरब ने भी मदद की है। सऊदी अरब वहां से कई भारतीयों को निकाल चुका है। ये पहला मौका नहीं है जब खाड़ी देश भारत की मदद कर रहा है। इससे पहले, ऑपरेशन राहत के तहत सऊदी ने भारत की मदद की थी।

क्या है ऑपरेशन राहत?
साल 2015 की बात है, तब सलमान को क्राउन प्रिंस घोषित किया गया था। उसी दौरान सलमान ने यमन में हूती विद्रोहियों के खिलाफ जंग छेड़ने का एलान कर दिया था। युद्ध के कारण भारत के अलावा यमन में कई देशों के नागरिक फंस गए थे। युद्धग्रस्त यमन से हजारों भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए ऑपरेशन राहत चलाया गया था।

सुषमा स्वराज ने साझा किया था किस्सा
पीएम मोदी के एक फोन पर कैसे सऊदी अरब ने भारतीयों की सुरक्षित निकासी के लिए जंग रोक दी थी… पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एक किस्सा शेयर किया था। दरअसल, एक अप्रैल 2015 को ऑपरेशन राहत लॉन्च किया गया था। यमन में चारों तरफ बमबारी हो रही थी और हजारों भारतीयों की जान वहां फंसी हुई थी। भारतीय नागरिक लगातार मोदी सरकार से मदद की गुहार लगा रहे थे। यमन में फंसे भारतीयों को बाहर निकालने में तब पीएम मोदी की सऊदी किंग के साथ दोस्ती काम आई।

ऑपरेशन कावेरी के तहत 600 से अधिक भारतीयों की हुई वतन वापसी
ऑपरेशन कावेरी: सूडान से सुरक्षित भारत लाए गए 600 से अधिक प्रवासी, अब भी फंसे 3500 भारतीय; रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
यह भी पढ़ें
यमन में बंद हो गए थे भारतीयों को निकालने के रास्ते
दिवंगत सुषमा स्वराज ने तब कहा था कि अक्‍सर लोग सवाल करते हैं कि पीएम मोदी की इतनी सारी विदेश यात्राओं से क्‍या हासिल होता है? सुषमा ने बताया था कि यमन में सऊदी अरब लगातार बमबारी कर रहा था। जमीन पर भी जंग जारी थी। भारतीयों को वहां से निकालने के लिए कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था। सुषमा आगे कहती हैं, “तब मुझे याद आया कि ऑस्‍ट्रेलिया के ब्रिसबेन में पीएम मोदी ने सऊदी किंग से मुलाकात की थी। तब मैं पीएम के पास गई और उन्हें सऊदी किंग को फोन करने को कहा।”

सूडान में चल रहे गृहयुद्ध के बीच नागरिकों को लाया गया भारत
मोदी का एक फोन और सऊदी ने रोक दी जंग
सुषमा ने तब बताया कि मुझे याद था कि पीएम मोदी और सऊदी किंग के बीच अच्छी दोस्ती है। मैंने पीएम से कहा कि वह सऊदी किंग से सात दिनों के लिए जंग रोकने का अनुरोध करें, जिससे हम अपने नागरिकों को वहां से निकाल सकें। इस पर मोदी ने सऊदी किंग से फोन पर बात की। सुल्तान ने मोदी से कुछ समय मांगा। बाद में जब सऊदी किंग का फोन आया तो उन्होंने कहा कि हम सात दिन के लिए तो नहीं, लेकिन रोज दो घंटे के लिए बमबारी रोक सकते हैं और एक हफ्ते तक ऐसा कर सकते हैं।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें


जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles